September 26, 2020

सिर्फ बिहारी मान के खातिर अबकी वोट करें

सिर्फ बिहारी मान के खातिर
अब की वोट करेंं
————————————
बिहार में विधान सभा का चुनाव होने जा रहा है। मतदान तीन चरणों में होगा। अब फैसला मतदाताओं को करना है कि किसे चुने?
अधिसंख्य क्षेत्रों में लड़ाई उन्हीं के बीच है जो आजमाए हुए हैं, जो उम्मीदों पर खरे नहीं रहे हैं, जो खून से रंगे हाथों का भी उपयोग किए हैं और आवारा पूँजी का भी।
इस भटकी राजनीति को रोकने के लिए जितने संसाधनों और धन की आज जरूरत है, किसी भले आदमी के लिए सम्भव नहीं है।
फिर करें क्या? रहजनों में से ही एक को रहबर चुन लें?
या
इससे मुक्ति की सोंचे?
या
चुप रहें ?

मेरी राय है कि मुक्ति की सोंचे।
इसके लिए जो साथी जहाँ कहीं है, वहीं पूँजी बल और बाहुबल के बीच फंसे लोकतन्त्र को मुक्त कराने की कोशिश करें, परिणाम की चिन्ता छोड़कर।

इसे लेकर मेरी ओर से बिहार के समस्त मतदाताओं को अर्पित है,

दाल, मखाना, पान के खातिर
अबकी वोट करें
————————————-

गेहूँ, मक्का, धान के खातिर अबकी वोट करें।
दाल, मखाना, पान के खातिर अबकी वोट करें।

न्याय के बदले लाठी वाली चोटें याद करें,
फिर जय बोल किसान के खातिर अबकी वोट करो।

घुटन भरे कमरों में सभी का जीना मुश्किल है,
इनमें रोशनदान के खातिर अबकी वोट करें।

सड़क पे बदमाशों का शासन आने को आतुर है,
पावन विधिक विधान के खातिर अबकी वोट करें।

वैशाली के पुत्रों सभी से एक गुजारिश है,
दिनकर के सम्मान के खातिर अबकी वोट करें।

नालन्दा के मित्रों दिल में कहीं समझ हो तो,
शिक्षा एक समान के खातिर अबकी वोट करें।

तजकर जात पांत का झगड़ा हाथ मिला कर सब,
जन जन के उत्थान के खातिर अबकी वोट करें।

तुलसी दास, कबीर, जायसी बोल रहे जन्‍नत से,
सूरदास, रसखान के खातिर अबकी वोट करें।

चन्द्रगुप्त से जयप्रकाश तक का इतिहास पढ़ो,
सिर्फ बिहारी मान के खातिर अबकी वोट करें।

धीरेंद्र नाथ श्रीवास्‍तव
सम्पादक
राष्ट्रपुरुष चन्द्रशेखर सन्सद में दो टूक
लोकबन्धु राजनारायण विचार पथ एक
अभी उम्मीद ज़िन्दा है

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *